Pyar Bhari Shayari

Pyar Bhari Shayari

 

रुठने मनाने के सिलसिले को ख़त्म कर देते हैं,
एक दूजे के जज़्बात अपने दिलों से भांप लेते हैं,
ना मिलने की खुशियाँ हो न गम हो बिछड़ने के,
चलो कुछ अपनों के दिलों की सच्चाई नाप लेते हैं.


Pyar Bhari Shayari

 

कुछ नशा तेरी बात का है,
कुछ नशा धीमी बरसात का है,
हमे तुम यूँही पागल मत समझो,
ये दिल पर असर पहली मुलाकात का है!!

प्यार भरी शायरी


Pyar Bhari Shayari

 

वजह पूछोगे तो सारी उम्र गुजर जाएगी…
कहा ना अच्छे लगते हो तो,बस लगते हो….!

Pyar Shayari


Pyar Bhari Shayari

 

अय दिल ये तूने कैसा रोग लिया,
मैंने अपनों को भुलाकर,
एक गैर को अपना मान लिया

Pyar Bhari Shayari


Pyar Bhari Shayari

 

आकर ज़रा देख तो तेरी खातिर हम किस तरह से जिए,
आंसु के धागे से सीते रहे हम जो जख्म तूने दिए



Source link

Write A Comment