अगर है यकीं तो कर लो क़ुबूल प्यार हमारा,
ये वो किताब है जिसे अल्फ़ाज़ों में बयां नहीं कर सकते हम

Agar hai yakeen ho to kar lo qubool pyar hamara,
Ye wo kitaab hai jise alfaazon mein byaan nahi kar sakte hum



Source link

Write A Comment